सीजन के MIP के लिए फ़ॉक्स की दावेदारी

संभावित मोस्ट इम्प्रूव्ड प्लेयर की रिंगर रैंकिंग में कहाँ हैं सोफोमोर गार्ड।

NBA के मोस्ट इम्प्रूव्ड प्लेयर का सम्मान पाने का कोई एक निश्चित तरीका नहीं है।

अलग-अलग कुशलता, आयु और प्रतिभा के धनी खिलाड़ी इसके इतिहास का हिस्सा बने हैं।

जियानिस आंतेतुकुंपो और केविन लव जैसे ऑल-स्टार्स से लेकर जालेन रोज़ और किंग्स के पूर्व फ़ॉरवर्ड ज़ैक रैंडॉल्फ के नामों से ज़ाहिर होता है कि इस लक्ष्य तक पहुँचने का कोई एक तयशुदा रास्ता नहीं है।



View this post on Instagram


WATCH THE THRONE

A post shared by Sacramento Kings (@sacramentokings) on

यह भले ही सच हो, लेकिन सीजन में अभूतपूर्व आंकड़े अपने नाम करना मदद तो करता ही है - जैसे डी आरोन फ़ॉक्स।

दूसरा सीजन खेलने वाले आमतौर पर यह पुरस्कार नहीं जीतते, क्योंकि माना जाता है कि अभी आप रुकी सीजन से ज़रा सा ही आगे बढे हैं - अब तक केवल सात दूसरे वर्ष के खिलाड़ियों ने यह पुरस्कार जीता है, और पिछले 25 वर्षों में केवल दो (गिल्बर्ट एरेनास और मोंटा एलिस) ही सफल हुए हैं।

नंबर 5 ने लगभग हर बड़ी श्रेणी में बेहतर आँकड़े दर्ज कराये हैं और उम्मीद की जा रही है कि वे यह सम्मान पाने वाले आठवें द्वितीय वर्ष खिलाडी बनेंगे।

द रिंगर के केविन ओ'कॉनर के अनुसार फ़ॉक्स ने पहले वर्ष से दूसरे वर्ष के बीच अब तक की सबसे बड़ी छलाँग लगायी है।

“वह [डी आरोन] रिम के पास से 64 प्रतिशत शॉट लगा रहा है, और हर पाँच शॉट्स पर दो फ्री थ्रो के प्रयास कर रहा है - दोनों उसके पहले सीजन से उल्लेखनीय प्रगति है,” केविन कहते हैं।

डी आरोन के प्लस-माइनस में भी ज़बरदस्त उछाल आया है।

एडवांस्ड मेट्रिक्स बताते हैं कि फ़ॉक्स का रियल प्लस-माइनस रुकी वर्ष के माइनस 4.3 से सोफोमोर वर्ष में प्लस 2.2 हो गया है, जबकि बॉक्स प्लस-माइनस, माइनस 4.4 से बढ़कर प्लस 1.0 हुआ है।

“वह रुकी के रूप में बहुत अयोग्य, नाकारा ओवर-ऑल प्लेयर था, लेकिन अब बेहतर स्कोरर, भरोसेमंद प्लेमेकर, और प्रतियोगी डिफेंडर के रूप में उभरा है, जिसने 2005-06 के बाद पहली बार किंग्स को विजयी सीजन के क़रीब पहुँचाया है,”  ओ'कॉनर की टिप्पणी है।



View this post on Instagram


The got loose in Manhattan

A post shared by Sacramento Kings (@sacramentokings) on

मार्च में स्वीपा का औसत प्रति गेम 19.4 पॉइंट, 7.6 असिस्ट और चार रिबाउंड था - जिसकी बदौलत टीम की प्ले-ऑफ़ की दावेदारी अब भी बनी हुई है।

केंटकी मूल के खिलाड़ी, दूसरे वर्ष में प्रायः देखी जाने वाली ढील को ज़बरदस्त उछाल में बदलने में कामयाब हुए हैं और सीजन के शेष 16 गेम्स में अच्छा खेले तो एसोसिएशन में अपने दूसरे सीजन को और अधिक शानदार बना सकते हैं।

Related Content


NEXT UP:

  • Facebook
  • Twitter