नेमान्या ब्येलित्ज़ा ने किंग्स में अपने क़दम जमाये

जानिये कि सीजन के शुरूआती दौर में किंग्स की सफलता और उच्च-स्तरीय दक्षता के लिए यूरो-लीग का यह पूर्व MVP कैसे ज़िम्मेदार रहा है।

शरद ऋतु की एक गर्म शाम, साउथ बीच के सफ़ेद बालू से ढँके समुद्र तट से कोई 10 मील दूर, नेमान्या ब्येलित्ज़ा सर्दी से ठिठुर रहे हैं।

अपने 6 फुट 10 इंच लम्बे शरीर को अमेरिकन एयरलाइन्स एरीना के विज़िटर्स लॉकर में समेटते हुए वे अपनी टाँगें फैलाते हैं और बर्फ़ीले पानी से भरे दो प्लास्टिक ट्यूब्स में पैरों को एड़ी तक डुबो देते हैं। जब उनके टीम-मेट्स चिकन सैंडविच का मज़ा ले रहे होते हैं या आई-पैड पर फिल्म देख रहे होते हैं, तब ब्येलित्ज़ा अपने प्री-गेम रूटीन से खुद को दिलासा दे रहे होते हैं। हर बार उनके पहलू बदलने पर ठंडा पानी लगभग छलक जाता है।

किंग्स के फ़ॉरवर्ड - मिठबोले और अपनी तारीफ़ से बचने वाले ब्येलित्ज़ा - यह सोचकर हँस पड़ते हैं कि उनकी रगों में ख़ून की जगह बर्फ़ीला पानी तो नहीं दौड़ रहा।

यूरो-लीग के पूर्व MVP को अपने विरोधियों को काँपता छोड़ने की आदत है - उन्होंने विदेशों में, गेम के पिछले हिस्से में अपने कारनामों से "प्रोफ़ेसर बिग शॉट्स" की उपाधि अर्जित की थी - लेकिन किंग्स के साथ अपने थोड़े से समय में, बड़ा अंतर लाने वाले खिलाड़ी की ख्याति के पीछे वे कुछ और कारण मानते हैं।


“पहले, कोर्ट में अपना सहज खेल खेलने में मुझे कठिनाई होती थी,” वे कहते हैं। “मुझे विदेशों का तो ख़ासा अनुभव था, लेकिन लीग में आपको बदलने की ज़रुरत पड़ती है। यह बास्केटबॉल बिलकुल अलग है, और जिस तरह NBA चल रहा है, यह यूरोप की तरह नहीं है। अब, मेरे पास बेहतर मौका है कि मैं दिखा सकूँ कि मैं इस लीग का हिस्सा हूँ। यह मेरा चौथा साल है, और सब कुछ आसान हो गया है।"

किसी भी पैमाने से नापकर देखें, उनका बढ़ता आत्म-विश्वास और नये टीम-मेट्स के साथ तालमेल साफ़ नज़र आता है।

सैक्रामेंटो में खेले 10 गेम्स के सभी प्रमुख वर्गों में, नंबर 88, टीम के सफल खिलाड़ियों के बराबर खड़े नज़र आते हैं। उन्होंने लगभग चार कोशिश प्रति गेम में से फ़ील्ड से 56.1 प्रतिशत और डीप से 53.8 प्रतिशत सफलता पायी है। बोर्ड पर वे सिर्फ अपने करियर के सर्वश्रेष्ठ आँकड़े ही दर्ज नहीं करा रहे बल्कि पॉइंट (14.4 ), रिबाउंड (5.8) और असिस्ट (2.8) में अपने पूर्व आँकड़ों को लगभग दोगुना करके दिखा रहे हैं।


यह विशाल खिलाड़ी, रोटेशन खिलाड़ियों के बीच, ऑफेंसिव नेट रेटिंग में तीसरे स्थान पर (plus-12.1) और डिफेंसिव नेट रेटिंग में (-10.4) पाँचवें स्थान पर हैं; NBA.com के अनुसार दोनों को जोड़कर देखें तो जब भी ब्येलित्ज़ा कोर्ट में हों, किंग्स का प्रदर्शन 22.5 पॉइंट प्रति 100 पज़ेशन बेहतर रहा है।

लीग में कम से कम 50 मिनट खेलने वाली, सभी पाँच सदस्यीय यूनिट्स में, सैक्रामेंटो के दो सबसे ज़्यादा इस्तेमाल होने वाले लाइन-अप (दोनों में ब्येलित्ज़ा शामिल हैं) नेट रेटिंग के आधार पर छठें (19.7) और दसवें (8.1) रैंक पर हैं।

“उसने टीम में एक नया आयाम जोड़ा है, जो पिछले साल नहीं था," गार्ड बडी हैल्ड कहते हैं। “वह एक प्ले-मेकर है, एक ऐसा खिलाड़ी है जो बॉल को फ़्लोर पर रख सकता है और बेहद अच्छे शॉट्स लगा सकता है। वह फ़्लोर को लम्बा बना देता है, जिससे फ़ॉक्स को फ़ाउल लाइन बनाने और वहाँ तक पहुँचने में मदद मिलती है।"

ब्येलित्ज़ा खेल का टेम्पो बढ़ाने का श्रेय फ़ॉक्स को देते हैं। फ़ॉक्स के बॉल को बाहर पहुँचाने से, उन्हें डीप से दूर तक देख पाने में मदद मिलती है - ट्रांज़िशन और हाफ़-कोर्ट सेट - दोनों परिस्थितियों में। सर्बिया निवासी ब्येलित्ज़ा ने पिछली पाँच में से चार प्रतियोगिताओं में कम से कम तीन ट्रिपल लगाये हैं। फ़्लोर पर उनके 144 मिनट के खेल के दौरान सैक्रामेंटो ने विरोधी टीम से 28 पॉइंट अधिक स्कोर किये।

“यूरो-लीग में मैं (ज़ेल्यको) ओब्रेडोविच के साथ खेलना चाहता था - वे यूरोप के सबसे अच्छे कोच हैं" उन्होंने बताया। “उनके साथ मैं बेहतर इंसान और बेहतरीन खिलाड़ी बन सका। मैंने उनसे कोर्ट के अंदर और बाहर बहुत कुछ सीखा।"

2014-15 में, विदेश के अपने अंतिम सीजन में, ब्येलित्ज़ा ने 50 प्रतिशत शूटिंग में 12.6 पॉइंट, 8.5 रिबाउंड और 1.2 स्टील प्रति गेम का औसत निकालकर, यूरो-लीग के सबसे महत्वपूर्ण खिलाड़ी (MVP) बनने का गौरव हासिल किया।

हालाँकि विदेशों के अपने व्यापक अनुभव से उन्हें अगले वर्ष NBA में आने में मदद मिली, लेकिन वहाँ तालमेल बैठाने में, तब के 27 वर्षीय खिलाड़ी को ज़्यादा कठिनाई हुई।

अधिक शारीरिक श्रम, तेज़ गति और भिन्न नियमों के साथ खेलते हुए ब्येलित्ज़ा ने टिम्बरवूल्व्स की ओर से अचानक बुलाये जाने पर 17.9 मिनट प्रति गेम के खेल में 5.1 पॉइंट और 3.5 रिबाउंड का औसत निकाला। कभी-कभी तो उन्हें अपनी निर्णय लेने की क्षमता पर भी संदेह हो जाता था।

“मेरे लिए वह कठिन समय था," वे बताते हैं। “मैं यूरो-लीग का MVP था लेकिन यहाँ मेरी भूमिका बिलकुल अलग थी, इसलिए पहला साल मुश्किल रहा। वह सीखने का दौर था ... पहला साल, ख़ास तौर पर यूरोप से आने वालों के लिए मुश्किल होता है क्योंकि NBA में इतने सारे महान खिलाड़ी होते हैं। उस समय आवश्यक है कि आप अवसर का लाभ उठायें और स्वस्थ रहें।"

चाहे चोट की वजह से हो - अपने दूसरे सीजन में पैर टूट जाने के कारण वे अंतिम 15 गेम नहीं खेल पाये - या परिस्थितियों के कारण - 2016-17 में कोचिंग व्यवस्था बदलने से आक्रमण की नीति बदल गयी - लेकिन ब्येलित्ज़ा को मिनेसोटा में ऐसे अवसर कम ही मिले।

लेकिन 2017-18 में जब वे घायल ऑल-स्टार जिमी बटलर की जगह स्टार्टिंग लाइन-अप में शामिल हुए, तब उन्हें अपनी बहुमुखी प्रतिभा दिखाने का मौक़ा मिला। ब्येलित्ज़ा ने 21 स्टार्ट्स में 10.8 पॉइंट और 6.8 रिबाउंड लिये और NBA.com अनुसार जिन 26 गेम्स में उन्हें फ्रंट कोर्ट में टीम के नियमित स्टार्टर्स के साथ शामिल किया गया, उनमें टिम्बरवूल्व्स ने अपने प्रतिद्वद्वियों को 7.9 पॉइंट प्रति 100 पज़ेशन से मात दी , जो मिनेसोटा के सबसे अधिक प्रयुक्त, पाँच सदस्यीय दल के प्रदर्शन (7.3) से भी थोड़ा बेहतर है।


8 मार्च को, उन्होंने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 30 पॉइंट अर्जित किये - फील्ड से 16 में से 11 और आर्क के पीछे से 9 में से 6 - और साथ ही 12 रिबाउंड और दो असिस्ट भी दर्ज किये। इस खेल में उन्होंने ऐसी स्वतंत्रता और आत्मविश्वास दिखाया जो लीग में शामिल होने के बाद कम ही देखने को मिला था।

“NBA में, उच्चतम स्तर पर प्रतियोगी बनने के लिए मुझे सब कुछ बदलने की ज़रूरत थी," वे कहते हैं। “मैं NBA में खेलना चाहता था इसलिए मैंने यह नयी भूमिका स्वीकार की।  मैं हार नहीं मानना चाहता था और मैंने हार नहीं मानी।"

टिम्बरवूल्व्स के साथ तीन सीजन रहने के बाद और हर वर्ष अपना स्कोर और रिबाउंड बढ़ाने के बाद, जुलाई के मध्य में ब्येलित्ज़ा अपने देश वापस गए ताकि भविष्य के लिए अपने विकल्पों पर विचार कर सकें - जिनमें उनके बास्केटबॉल करियर और उनके परिवार के हित भी शामिल थे।

यूरोप लौटने की भी बात चल रही थी और NBA की एक अन्य टीम का बुलावा भी आया हुआ था, जिसमें उनकी रूचि थी। लेकिन किंग्स के जनरल मैनेजर व्लादे दिवाक की एक अप्रत्याशित फ़ोन कॉल ने फ़ैसला लेना आसान कर दिया।



View this post on Instagram


Rookie and the vet!

A post shared by Bogdan Bogdanovic (@bogdanbogdanovic) on

“सैक्रामेंटो ने ऑफर दिया और मैं मना नहीं कर सका" ब्येलित्ज़ा ने बताया। “व्लादे ने कहा कि सैक्रामेंटो मेरे लिए बिलकुल सही रहेगा ... और मैं उनकी मदद कर सकता हूँ। यह चुनाव आसान था क्योंकि यहाँ मैं बोगी (बोग्दान बोग्दानोविक), व्लादे और पेजा (स्टोजाकोविक) के साथ हूँ। मुझे लगता है मैंने बिलकुल सही चुनाव किया है।"

कम ही लोग होंगे जो इससे सहमत नहीं होंगे।

ब्येलित्ज़ा की कोर्ट के एक सिरे से दूसरे तक पहुँचने, ऊँची कूद लगाने और बॉल संभालने की दक्षता को देखते हुए विरोधी टीम को किंग्स के आक्रमण को झेलते हुए बड़ी सावधानी से बचाव करना पड़ता है।  और यह न भूलिये कि सैक्रामेंटो ने पाँच सालों में सबसे अच्छी शुरुआत की है।

यूरोप से NBA तक के चुनौती भरे सफ़र के बाद, सैक्रामेंटो टीम में शामिल होने वाले ब्येलित्ज़ा को आख़िर अपनी मंज़िल मिल गयी। अब वे अंतिम क्षणों में तिहरा शॉट लगाने से लेकर कोर्ट के आर-पार किसी टीम-मेट को पास देने तक कोई भी भूमिका निभाने और सीजन के अंत में किंग्स की दावेदारी बरक़रार रखने के लिए कुछ भी करने को तैयार हैं।

“मुझे जीतना पसंद है, इसलिए जब तक मैं कोर्ट में हूँ और अपने साथियों को जीतने में मदद कर रहा हूँ, मेरे लिए वही सबसे महत्वपूर्ण है," ब्येलित्ज़ा अपने बर्फ़ से ठंडे पैरों को ढँकने के लिए सूखा तौलिया उठाते हुए कहते हैं।

“जीतने में बहुत मज़ा आता है। हम युवा हैं और हमें यह समझना चाहिए। हम जीत की ओर बढ़ रहे हैं।"

Tags

Related Content