जाइल्स ने ब्लीचर रिपोर्ट को सुनायी अपने स्वस्थ होने की कहानी

ब्लीचर रिपोर्ट में प्रकाशित फ़ीचर में हैरी जाइल्स द थर्ड ने घुटने की तीन-तीन सर्जरी के बाद मैदान में लौटने की अपनी जद्दो-जहद के बारे में विस्तार से बताया।

"उस समय जो कुछ मैं कर रहा था, वह पागलपन था," जाइल्स ने Bleacher Report (ब्लीचर रिपोर्ट) को बताया।

"मैं समझ सकता हूँ कि लोग क्यों मेरा मज़ाक उड़ाते थे। लेकिन अब मैं पहले से ज़्यादा मज़बूत और समझदार हूँ। कभी-कभी मुझे लगता है, काश मैं तब ऐसा होता। उससे मेरा चोटों से बचाव तो न होता, पर मुझमें कुछ समझ होती। मैं शायद तब कुछ बातें बदल सकता - कुछ भी।"

हैरी जाइल्स की कहानी किसी हॉलीवुड फ़िल्म की स्क्रिप्ट से कम नहीं है।

अपनी क्लास में टॉप हाई स्कूल रिक्रूट माने जाने के बाद, नंबर 20 को एक-के-बाद-एक शारीरिक और व्यक्तिगत कष्टों से गुज़रना पड़ा, जिससे उनके बास्केटबॉल करियर पर ही सवाल खड़े हो गए थे।

सोलह वर्ष से काम आयु वाले खिलाड़ियों की USA बास्केटबॉल टीम में खेलते हुए उनकी ACL, MCL और मेनिकस में टेअर आया और उसके कुछ ही दिनों के अंदर उनकी एक क़रीबी दोस्त की अलाबामा में कार-दुर्घटना में मौत हो गयी।

"मैं जिस स्थिति से गुज़र रहा था वह बुरी थी," जाइल्स कहते हैं। "लेकिन वह दुनिया की सबसे ख़राब स्थिति नहीं थी। वह भी एक बास्केटबॉल खिलाड़ी थी, और मैं जनता था कि मुझे वापस आना है और उसके लिए खेलना है।”

बाद में वह ड्यूक में शामिल हुए लेकिन आज भी याद करते हैं कि उन्होंने कितना खेल मिस किया और किस तरह उन्हें अपनी चोटों से निपटना चाहिए था।

"मुझे ड्यूक में शामिल होने के बाद खेलना नहीं चाहिए था," वे कहते हैं। "मैं खेलने के लिए तैयार नहीं था। मुझे लगा कि मैं तैयार हूँ, लेकिन था नहीं।  मैं जल्दबाज़ी नहीं कर रहा था, लेकिन फिर भी जल्दी में था। मैंने काफी समय लिया लेकिन मैं तैयार नहीं था ... वैसा नहीं जैसा अब महसूस होता है।  अब मैं बिलकुल तैयार हूँ।”

किंग्स के साथ अपने रुकी सीजन में आराम करने के बाद अब जाइल्स अपनी उस प्रतिष्ठा को फिर से प्राप्त करने के लिए तैयार हैं, जो उन्हें किशोर खिलाड़ी के रूप में मिल चुकी थी।




View this post on Instagram


✈️ H-AIR-RY GILES ✈️

A post shared by Sacramento Kings (@sacramentokings) on

"सच पूछिये तो मुझे नहीं मालूम कि मैं फिर से पहले जैसा खिलाड़ी बन सकूँगा या नहीं," वे कहते हैं। "मैं अलग तरह का रहूँगा। लेकिन मैं तब तक कोशिश करता रहूँगा जब तक पहले से कहीं बेहतर न बन जाऊँ।”

Tags

Related Content